श्री गुरु नानक देव जी

Shri Guru Nanak dev ji Biography in Hindi

Shri Guru Nanak dev ji Biography in Hindi

श्री गुरु नानक देव जी सिख धर्म के संस्थापक और सिख धर्म के पहले गुरु थे | उनका जन्म 1469 में भारतीय उपमहाद्वीप के पंजाब प्रान्त के तलवंडी गाँव में हुआ था | गाँव जिसे अब ननकाना साहिब के नाम से जाना जाता है, वर्तमान में यह गाँव पाकिस्तान के लाहौर शहर के पास स्थित है | सिख धर्म में उनका जन्म दिवस चंद्र महीने में पूरनमाशी (पूर्णिमा) के शुभ अवसर पर जश्न मनाया जाता है, जो हर साल एक अलग तारीख पर पड़ता है | सन 2018 में यह दिन 23 नवंबर है |

श्री गुरु नानक देव जी का जन्म पिता मेहता कालू जी, जो की एक एकाउंटेंट, और माता तृप्ता जी, जो की एक साधारण और बहुत धार्मिक महिला के घर में हुआ था, और बहन बेबे नानकी जी के लिए एक छोटा सा भाई था | शुरुआती उम्र से, यह स्पष्ट था की गुरु नानक देव जी एक असाधारण बच्चे थे, जिसे दिव्य शक्ति प्राप्त है | एक गहरी चिंतनशील मन और तर्कसंगत सोच से धन्य, युवा नानक अक्सर अपने ज्ञान की उत्कृष्टता के साथ अपने बुजुर्गों और शिक्षकों को आश्चर्यचकित करते थे, खासकर दिव्य मामलों पर | उन्होंने परम्परागत धार्मिक अनुष्ठानों में भाग लेने से इंकार कर दिया, और अक्सर जाति व्यवस्था, मूर्तिपूजा, और देवी-देवताओं की पूजा जैसे कई प्रचलित सामाजिक प्रथाओं के खिलाफ बात की | 16 साल की बेहद छोटी सी उम्र तक, गुरु नानक ने कई मौजूदा धार्मिक ग्रंथों और भाषाओं (संस्कृत, फारसी, हिंदी) पर महारत हासिल कर लिया था, और लिख रहे थे की कई लोग ईश्वरीय रूप से प्रेरित रचनाओं को मानते थे |



श्री गुरु नानक देव जी परिवार –

वर्ष 1487 में श्री गुरु नानक देव जी की शादी माता सुलखनी जी से हुई थी और उनके 2 बेटे श्री चंद और लख्मी चंद थे | श्री चंद जी को गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं से ज्ञान प्राप्त हुआ और उदासी सम्प्रदाय के संस्थापक बन गए |

गुरु नानक देव जी के लेखन, 974 आध्यात्मिक भजनो के रूप में श्री जपजी साहिब, असा दी वर, बारा माह, सिद्ध गोश्त और दखनी ओंकार शामिल थे | सिख धर्म के पांचवे गुरु श्री अर्जुन देव जी द्वारा गुरु ग्रन्थ साहिब जी में शामिल किये गए थे | गुरु नानक देव जी के बाद सभी सिख गुरुओं ने अपने पवित्र लेखन को लिखते हुए खुद को भी नानक जी के रूप में अपनी पहचान जारी रखी | इस प्रकार, सिखों का मानना है कि सभी गुरुओं में एक समान देवीय शक्ति का प्रकाश था और श्री गुरु नानक देव जी द्वारा प्रचारित सिद्धांत को ही ओर मजबूत किया |

श्री गुरु नानक देव जी ने भाई लेहाना को अपना उत्तराधिकारी गुरु के रूप में नियुक्त किया, उन्हें गुरु अंगद जी के रुप में नामित किया, जिसका अर्थ है कि “आप का हिस्सा” | भाई लेहाना जी को अपना उत्तराधिकारी के रूप में घोषित करने के कुछ समय बाद ही, श्री गुरु नानक देव जी 22 सितम्बर 1539 को 70 वर्ष उम्र में करतारपुर में निधन हो गया |

सिख धर्म के 10 गुरु (जन्म – मृत्यु)-

  1. श्री गुरु नानक देव जी (1469 – 1539)
  2. गुरु अंगद जी (1504 – 1552)
  3. गुरु अमर दास जी (1479 – 1574)
  4. गुरु राम दास जी (1534 – 1581)
  5. गुरु अर्जन देव जी (1563 – 1606)
  6. गुरु हरगोबिंद जी (1595 – 1644)
  7. गुरु हर राय जी (1630 – 1661)
  8. गुरु हर कृष्ण जी (1656 – 1664)
  9. गुरु तेग बहादुर जी (1621 – 1675)
  10. गुरु गोबिंद सिंह जी (1666 – 1708)




Author: Hitesh Kumar

मेरा नाम हितेश कुमार है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational stories, हिंदी कवितायेँ, मनोरंजक न्यूज़,स्टूडेंट्स के लिए study और जॉब related पोस्ट etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Reply

%d bloggers like this: