Pal Ek Mujhe by Pragya Shukla

Total
0
Shares
Pal Ek Mujhe by Pragya Shukla

कल फिर कर लेंगे, बात कभी जमाने की,

पल एक मुझे कुछ अपनी भी कह लेने दो

कल फिर पोछेंगे अश्क़ कभी जमाने के

अपने हिस्से का गम मुझे सह लेने दो ||१||

कल फिर देखेंगे वक़्त की तहरीरों को,

पल एक मुझे पुराना खत कोई पढ़ लेने दो,

कल फिर कर लेंगे बातें कभी तबाही की

पहचान मुझे दरों दीवारों कि कर लेने दो ||२||




कल फिर कर लेंगे बात कभी तुफानो कि,

पल एक मुझे यूँ मंद हवा संग बहने दो,

कल फिर बाटेंगे दर्द प्रायों का मिलकर

पल एक मुझे अपनों से शिकवा कर लेने दो ||३||

कल फिर खोजेंगे मोती कभी समंदर के

पल एक मुझे तट पर सीपों को चुन लेने दो

कल फिर कर लेंगे बात गुलों गुलज़ारों की,

पल एक मुझे खारों में भी रह लेने दो ||४||

कल फिर कर लेंगे बात कभी वीरानों की

पल एक मुझे इस बस्ती में रह लेने दो

कल फिर कर लेंगे नग्मों की बरसात यहाँ

पल एक मुझे दर्द भरा वो गीत गा लेने दो ||५||




लेखक – प्रज्ञा शुक्ला

You May Also Like

क्षितिज के पार से By Pragya Shukla

क्षितिज के पार से By Pragya Shukla चाहती हूँ लौट आओ तुम क्षितिज के पार से, अब तिमिर घनघोर छाया, कुछ नजर आता नहीं, राह अब मुझको दिखाओ, तुम क्षितिज…
View Post

Chidiya ka Ghar | Jeevan ka Sach – Beautiful Lines

**चिड़िया का घर – लाजवाब पंक्तियाँ**   *तन्हा बैठा था एक दिन मैं अपने घर में, चिड़िया बना रही थी घोंसला रोशनदान में …||*   *पल भर में आती पल…
View Post

शराब नहीं…शराबियत …. यानी अल्कोहलिज़्म…!

आदत जिसको समझे हो वो मर्ज कभी बन जायेगा फिर मर्ज की आदत पड़ जाएगी अर्ज ना कुछ कर पाओगे गर तब्दीली की गुंजाइश ने साथ दिया तो ठीक सही…
View Post