क्षितिज के पार से By Pragya Shukla

Total
0
Shares
क्षितिज के पार से by Pragya Shuka

क्षितिज के पार से By Pragya Shukla

चाहती हूँ लौट आओ तुम क्षितिज के पार से,

अब तिमिर घनघोर छाया,

कुछ नजर आता नहीं,

राह अब मुझको दिखाओ,

तुम क्षितिज के पार से ||1||

पास तुम थे तो निराली थी महक इस बाग़ की,

तुमको खोकर हो गया वीरान ये,

गुलशन मेरा,

चाहती हूँ बाग़ का हर गुल खिला दो,

तुम क्षितिज के पार से ||2||




मेरा हर आंसू पुकारे,

लम्हा-लम्हा कह रहा,

उर से फिर मुझको लगा लो,

तुम क्षितिज के पार से ||3||

वेदनाओं को बहुत मैं सह चुकी,

सवेंदना पाकर बहुत मैं रो चुकी,

चाहती हूँ वेदना का ये गरल,

पीना सीखा दो, तुम क्षितिज के पार से ||4||

राह में अब तक पड़ी हूँ,

रास्ते की धुल सी,

यूं हवा बन के उड़ा लो,

तुम क्षितिज के पार से ||5||




लेखक – Pragya Shukla

You May Also Like

Pal Ek Mujhe by Pragya Shukla

कल फिर कर लेंगे, बात कभी जमाने की, पल एक मुझे कुछ अपनी भी कह लेने दो कल फिर पोछेंगे अश्क़ कभी जमाने के अपने हिस्से का गम मुझे सह…
View Post

शराब नहीं…शराबियत …. यानी अल्कोहलिज़्म…!

आदत जिसको समझे हो वो मर्ज कभी बन जायेगा फिर मर्ज की आदत पड़ जाएगी अर्ज ना कुछ कर पाओगे गर तब्दीली की गुंजाइश ने साथ दिया तो ठीक सही…
View Post